ALL लखनऊ प्रयागराज आगरा कानपुर बस्ती भोपाल पटना हाजीपुर झाँसी
खराब समयपालनता वाली ट्रेनों पर बारीकी से निगरानी की आवश्यकता
August 5, 2019 • राहुल यादव

प्रयागराज।  सोमवार को आगरा, इलाहाबाद और झांसी डिवीजनों के साथ उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय कार्यालय में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संरक्षा, समय की पाबंदी और महत्वपूर्ण कार्यों की समीक्षा बैठक आयोजित की गई।  उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक राजीव चौधरी की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में उत्तर मध्य रेलवे के अपर महाप्रबंधक, मुख्यालय के सभी प्रमुख विभागाध्यक्ष उपस्थित रहे एवं तीनों मण्डल के मंडल रेल प्रबंधक अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने वीडियो लिंक के माध्यम से भाग लिया। बैठक के दौरान, मंडलों के साथ संरक्षा संबंधी विषयों पर विस्तार से चर्चा की गई।

 

      उत्तर मध्य रेलवे ने ट्रेन परिचालन में संरक्षा सुधार की दिशा में कई कदम उठाए हैं। उत्तर मध्य रेलवे ने लगभग बच गई दुर्घटनाओं से जुड़े मामलों का लेखा-जोखा रखना शुरू कर दिया है ताकि किसी भी संभावित घटना से बचने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा सके। महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने कहा कि फील्ड निरीक्षण पर जाने वाले अधिकारियों को यार्ड के कर्मचारियों से बात कर जांच करनी चाहिए कि हमारा फ्रंटलाइन कर्मचारियों संरक्षा संबंधित पर्याप्त ज्ञान है कि नहीं। उन्होंने आगे कहा कि कर्मचारियों की काउंसलिंग की व्यवस्था पहले से मौजूद है और इसे ठीक से लागू किए जाना सुनिश्चित किया जाए।

महाप्रबंधक ने कहा कि लिमिटेड हाइट सबवे विशेष रूप से डीएफसी मार्ग पर स्थित सबवे पर उचित प्रकाश व्यवस्था और गंदगी हटाने की व्यवस्था होनी चाहिए क्योंकि, लंबे सबवे होने के कारण सड़क उपयोगकर्ताओं की सुरक्षा के लिए उचित प्रकाश व्यवस्था महत्वपूर्ण है। बैठक में महाप्रबंधक ने आगे कहा कि फील्ड में काम करने वाले कर्मचारियों की कई श्रेणी के लिए सेफ्टी गियर और संरक्षा से जुड़े वस्त्रों के प्रावधान किए गए हैं, उन्होंने मंडल रेल प्रबंधकों को कर्मचारियों के लिए किए गए वास्तविक प्रावधानों की जांच करने के निर्देश दिए और यदि कोई कमी हो तो उसको पूरा करने का निर्देश दिया।

      इन्फ्रास्ट्रक्चर के संदर्भ में, सूबेदारगंज वाशिंग लाइन की प्रगति की समीक्षा की गई थी, एक बार यह कमीशन हो गई तो इससे इलाहाबाद स्टेशन पर कंजेशन कम हो सकेगा क्योंकि ट्रेनों को सूबेदारगंज से परिचालित किया जा सकेगा। इस दौरान कई अन्य महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे से जुड़े विषयों जैसे नैनी-छिवकी तीसरी लाइन, लंबे लूप  आदि पर भी विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में इलाहाबाद स्टेशन पर ढांचागत कार्य जो माघ मेला -2020 से पहले पूरा किया जा सकता है, पर भी चर्चा की गई। इलाहाबाद के मंडल रेल प्रबंधक

ने कहा कि इलाहाबाद जंक्शन पर निर्माणाधीन जी + 4 लेवल भवन को माघ मेला से पहले पूरा करने की आवश्यकता है इससे मेला अवधि के दौरान कर्मचारियों आदि को समायोजित करने में सहायता मिलेगी। उत्तर मध्य रेलवे में समयपालनता पिछले साल की तुलना में 18% बढ़ी है। महाप्रबंधक ने खराब समयपालनता वाली ट्रेनों पर बारीकी से निगरानी की आवश्यकता जताई।