ALL लखनऊ प्रयागराज आगरा कानपुर बस्ती भोपाल पटना हाजीपुर
दिग्विजय को सहन करने और सिंधियाजी को अपमानित करने की मजबूरी स्पष्ट करें कमलनाथ :शर्मा
May 2, 2020 • राहुल यादव
 
 
  • आपके दुर्व्यवहार ने मंत्री विधायकों को  कुर्बानी देने के लिए किया विवश
 
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, सांसद  विष्णुदत्त शर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री  कमलनाथ से प्रश्न किया है कि ऐसी कौन सी मजबूरी थी कि वे सरकार बनने के पहले दिन से  दिग्विजय सिंह को बर्दाश्त करते रहे और अंततः सरकार गिराने का खामियाजा भुगतना पड़ा। आपने  दिग्विजयसिंह के दबाव में लगातार अपने ही विधायकों और मंत्रियों का अपमान क्यों किया? आपने क्यों  दिग्विजयसिंह के बेटे को कैबिनेट मंत्री बनाने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ विधायकों की राजनीति का गला घोंटा?यह जनता के सामने स्पष्ट करना चाहिए।
 शर्मा ने आशंका व्यक्त की कि कोई ऐसा कारण जरूर है, जिसके चलते मुख्यमंत्री के रूप में  कमलनाथ ने लगातार  दिग्विजय सिंह की नाजायज बातों को सहन किया। अगर  कमलनाथ समय रहते उन बातों का खुलासा करते, तो शायद तमाम विधायकों को अपनी विधायकी का बलिदान नही देना पड़ता।  कमलनाथ आज अपना सिर नहीं धुंन रहे होते। कमलनाथ जी आपने भारत की राजनीति में ईमानदारी और शुचिता की परंपरा कायम रखने वाले सिंधिया परिवार के मुखिया  ज्योतिरादित्य सिंधिया को सड़क पर उतरने की नसीहत दे डाली। आज परिणाम सबके सामने है। सिंधिया  की ईमानदारी और पारदर्शिता में भरोसा करने वाले उनके समर्थक विधायकों ने अपनी विधायकी को दांव पर लगाया,यह कोई मामूली बात नहीं है। कोई विधायक अथवा मंत्री तभी अपने पद का त्याग करता है, जब उसे ह्रदय की गहराइयों तक चोट पहुंचाई जाती है।
 ज्योतिरादित्य सिंधिया पर लाँछन लगाने वाले कांग्रेसियों को  दिग्विजयसिंह को धिक्कारने की हिम्मत जुटानी चाहिए। प्रदेश की जनता को यह जानने का अधिकार है कि 18 महीने तक किसके इशारे पर प्रदेश को लूटा गया और राजनीतिक प्रतिशोध के चलते भीषण कार्यवाहियां हुई। यह अलग बात है कि कांग्रेस के मंत्री और विधायकों ने बार-बार बताया था कि शराब,रेत और खनन माफिया कौनसा पूर्व मुख्यमंत्री है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनका ही अपमान किया जो सच को सामने लेकर आए।
 ज्योतिरादित्य सिंधिया के पूरे राजनीतिक करियर में एक भी दाग नहीं है। इसके बावजूद  कमलनाथ  ने मुख्यमंत्री के रूप में और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के रुप में भी  सिंधिया को निरंतर अपमानित करने के जतन किए। इसे कोई भी स्वाभिमानी व्यक्ति सहन नहीं कर सकता ।
आज कमलनाथ का यह व्यक्तव्य कि वह दिग्विजय सिंह के धोखे का शिकार हुए हैं। यह स्पष्ट करता है कि कमलनाथ ने अपनी अक्षमताओं के कारण गलत व्यक्ति से प्रश्रय प्राप्त किया और सही लोगों को अपमानित किया। अगर आज श्री कमलनाथ और उनकी मंडली के भीतर नैतिकता बची हो तो श्री सिंधिया और उन सभी मंत्री-विधायकों से माफी मांगे,जो उनके अत्याचार, अनाचार और उपेक्षा से दुखी होकर अपना मंत्री पद और विधायकी कुर्बान करने पर मजबूर हुए हैं।