ALL लखनऊ प्रयागराज आगरा कानपुर बस्ती भोपाल पटना हाजीपुर झाँसी
कांग्रेस की नीतियों के कारण देश का धर्म के आधार पर बंटवारा हुआ : राकेश सिंह                  
December 30, 2019 • राहुल यादव

 भोपाल। नागरिकता संशोधन कानून 2019 के समर्थन में देश भर में आमजन द्वारा रैली, मार्च और जनजागरण कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। सोमवार को सोशल मीडिया पर भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ आम नागरिकों ने मिलकर सीएए के समर्थन में अभियान चलाया। नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह एवं कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट कर कांग्रेस सहित विपक्षी दलों द्वारा नागरिकता संशोधन कानून को लेकर फैलाए जा रहे भ्रम से दूर रहने की बात कही। भारतीय जनता पार्टी के नेतागणों ने सोमवार को सीएए के समर्थन में सोशल मीडिया पर अभियान चलाया, जिसमें आम नागरिकों ने भी बढ़ चढ़कर भागीदारी की। सोशल मीडिया पर #IndiaSupportsCAA हैशटेग ट्रेंड पर रहा। पार्टी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराजसिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने सीएए के समर्थन में ट्वीट किए।   पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने ट्वीट किया कि नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में प्रताडित धार्मिक अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने के भारतीय जनता पार्टी के वचन का क्रियान्वयन है। एक अन्य ट्वीट में कहा कि सीएए की जरूरत ही नहीं पडती अगर देश का धार्मिक आधार पर बंटवारा न हुआ होता। कांग्रेस की गलत नीतियों के कारण ही देश का धर्म के आधार पर बंटवारा हुआ है।

गांधी और नेहरू की स्थापित नीति का कांग्रेस द्वारा विरोध दुर्भाग्यपूर्ण

                राकेश सिंह ने कहा कि महात्मा गांधी ने 26 सितंबर 1947 को प्रार्थना सभा में कहा कि पाकिस्तान में रहने वाले हिन्दू, सिख हर नजरिए से भारत आ सकते हैं, अगर वे वहां निवास नहीं करना चाहते है तो उस स्थिति में उन्हें नौकरी देना और उनके जीवन में सामान्य बनाना भारत सरकार का कर्त्तव्य है। यह कांग्रेस की दुर्भाग्यपूर्ण राजनीति है जो गांधी जी और नेहरू जी द्वारा स्थापित नीति का विरोध करके मानवाधिकारों को कुचलने का काम कर रही है। यही कांग्रेस की विनाश काले विपरीत बुद्धि है।

स्वहित के लिए विरोध कर रहा विपक्ष : शिवराज सिंह

                शिवराजसिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर जो लोग नागरिकता कानून के विरोध में भारत को हिंसा की आग में झोंकने का प्रयास कर रहे हैं, वे भारत के नाम को बदनाम करने का काम कर रहे हैं। देश विरोधी ताकतें नागरिकता कानून के विरोध में आवाज बुलंद कर रही हैं। इन्हें देश की प्रगति और विकास से कुछ लेना-देना नहीं है। विपक्ष ये हंगामा सिर्फ स्वहित के लिए कर रहे हैं। इसलिए इनके बहकावे में ना आएं। पूरा भारत वर्ष नरेन्द्र मोदी के साथ है। यह जो मुट्ठीभर लोग अपने हित के लिए नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं, देश की जनता इनकी असलियत शीघ्र ही जान जाएगी।

सीएए कानून सिर्फ शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए

                 चौहान एक अन्य ट्वीट में कहा कि देश जानता है कि पाकिस्तान से हमारे अल्पसंख्यक भाई, बहन कैसी कैसी यातनाएँ झेल कर भारत आये हैं। सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास की मजबूती का कारण है। हम किसी भी कीमत पर उन्हें न्याय दिलायेंगे और उन्हें सारी बुनियादी सुविधाएँ मुहैया कराएंगे। विपक्षी दल भी धर्म के नाम पर देश को बाँटना चाहते हैं। हर जाति, पंथ, समुदाय और समूह के नागरिक हमारे अपने हैं। यह कानून तो सिर्फ शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए हैं। उन्होंने कहा कि जनता के हित से जुड़े विषय उठाने में कांग्रेस समेत विपक्ष के अन्य दलों को कोई रुचि नहीं है। उन्हें हिंसा भड़काने और भारत के नागरिकों को आपस में लड़वाने में ही संतोष प्राप्त होता है। सिंह ने जनता से अपील करते हुए कहा कि विपक्ष के बहकावे में न आएँ।

कांग्रेस के पास विरोध के लिए ठोस मुद्दा नहीं : गोपाल भार्गव

              गोपाल भार्गव ने सीएए के समर्थन अभियान में ट्वीट करते हुए लिखा कि असल में कांग्रेस के पास विरोध के लिए कोई ठोस मुद्दा नहीं है। मोदी सरकार का विरोध करना ही कांग्रेस का एकमात्र उद्देश्य है। और यही कारण है कि वह केंद्र सरकार के हर उस ऐतिहासिक निर्णय जिसे जनता पसंद कर रही है, उसका भी विरोध करने में लगी हुई है। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि कांग्रेस धारा 370, 35 ए, तीन तलाक जैसे ऐतिहासिक निर्णयों का विरोध करती आयी है, जबकि जनता ने मोदी सरकार का समर्थन किया। कांग्रेस ने सत्ता में रहते हुए नागरिकता संशोधन अधिनियम का समर्थन किया और अब विपक्ष में विरोध कर रही है। यह कांग्रेस के दोहरे चरित्र को दर्शाता है, लेकिन जनता कांग्रेस को अब पहचान चुकी है।

जो घोषणा पत्र में कहा उसे साकार कर रही मोदी सरकार

                भार्गव ने ट्वीट में कहा कि जो लोग यह कह रहे है कि हम वोट बैंक की राजनीति कर रहे है उन्हें पता होना चाहिए कि नागरिकता संशोधन अधिनियम, राम मंदिर और धारा 370 जैसे विषय पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल थे। जिसे देश की जनता ने समर्थन देते हुए ऐतिहासिक जीत दी। आज मोदी सरकार जनआकांक्षाओं को पूरा कर रही है। उन्होंने कहा कि सीएए को लेकर कांग्रेस द्वारा भ्रांति फैलायी जा रही है कि यह कानून देश के अल्पसंख्यकों के खिलाफ है। जबकि यह कानून सिर्फ पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के धार्मिक आधार पर प्रताडित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का कानून है। यह किसी की नागरिकता लेने का कानून नहीं है।