ALL लखनऊ प्रयागराज आगरा कानपुर बस्ती भोपाल पटना हाजीपुर
उत्तर मध्य रेलवे ने पटरियों पर अनधिकृत मूवमेंट रोकने को चलाया विशेष अभियान 
May 9, 2020 • राहुल यादव • प्रयागराज
श्रमिक स्पेशल गाड़ियों के चलने के साथ, 250 से अधिक ट्रेनें दैनिक रूप से उत्तर मध्य रेलवे के विभिन्न मार्गों पर चल रही हैं । 
ट्रेन परिचालन की वर्तमान स्थिति और प्रवासी मजदूरों के मूवमेंट के दृष्टिगत रेल पटरियों के निकट अनाधिकृत पैदल आवाजाही को ध्यान में रखते हुए,  राजीव चौधरी महाप्रबंधक, उत्तर मध्य और उत्तर रेलवे ने सभी मंडलों को इस तरह के मूवमेंट पर कड़ी निगरानी के लिए निर्देश दिए हैं। इसी क्रम में  रेलवे ट्रैक पर और उसके निकट अनधिकृत मूवमेंट/ ट्रेसपासिंग पर अंकुश लगाने के लिए नियमित प्रयासों के साथ ही उत्तर मध्य रेलवे ने एक संरक्षा अभियान प्रारंभ किया है।
जन सम्पर्क अधिकारी ने बताया, नियमित यात्री सेवाओं को लॉकडाउन में रोक दिया गया है तथापि मालगाड़ियों और पार्सल ट्रेनों के निरंतर मूवमेंट की जानकारी लगातार साझा की गयी और एक विशेष जागरूकता अभियान के तहत रेलवे ट्रैक पर पैदल नहीं चलने के लिए उत्तर मध्य रेल परि़क्षेत्र में 12 लाख से ज़्यादा एसएमएस आम जनता को भेजे गए।   
 उत्तर मध्य रेलवे में शुरू हुए एक पखवाड़े के लंबे संरक्षा अभियान में विशिष्ट विषयों पर बल दिया जा रहा  है।
• सभी लोको पायलट, गार्ड, गेटमैन, ट्रैकमैन, स्टेशन मास्टर, पॉइंट्स मैन, रेल सुरक्षा बल और अन्य सभी रेल कर्मचारियों को किसी भी व्यक्ति द्वारा रेलवे ट्रैक पर या निकट किसी भी अनाधिकृत मूवमेंट / ट्रेसपासिंग की निकटतम स्टेशन / नियंत्रण कक्ष / पर्यवेक्षक / आरपीएफ पोस्ट को सूचित करने के निर्देश दिए गए हैं  ताकि उस पर आवश्यक कार्यवाई की जा सके।
• उत्तर मध्य रेलवे के सभी तीन मंडलों को निर्देशित किया गया है कि वे ऐसे किसी भी अनधिकृत मूवमेंट और उस पर की गई कार्रवाई का उचित रिकॉर्ड रखें। मंडलों  को ड्राइव पूरा होने पर समग्र रिपोर्ट भेजने के लिए भी निर्देशित किया गया है, ताकि इस संबंध में आगे की आवश्यकता हेतु कार्रवाई की जा सके।
• विभिन्न उपलब्ध प्रचार साधन जैसे कि पैम्फलेट वितरण, प्रिंट मीडिया का उपयोग, इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया आदि के माध्यम से जन जागरूकता अभियान भी तेज किए जा रहे हैं। 
 
गौरतलब है कि शनिवार तक उत्तर मध्य रेलवे में लगभग 150 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को परिचालित किया गया है और विभिन्न स्टेशनों पर टर्मिनेट हुई 22 विशेष ट्रेनों के माध्यम से 26000 से अधिक प्रवासियों और अन्य फंसे व्यक्तियों को गंतव्य तक पहुंचाया गया है।