ALL लखनऊ प्रयागराज आगरा कानपुर बस्ती भोपाल पटना हाजीपुर झाँसी
यूपीडा के उठाये गये कदमों से एक्सप्रेस - वे पर दुर्घटनाओं में आयी कमी -  अवनीश कुमार अवस्थी
November 1, 2019 • राहुल यादव
 लखनऊ :ओवर स्पीडिंग , नशे की हालत में वाहन चलाना , ड्राइवर को वाहन चलाते समय नींद आना और मार्ग सेफ्टी फीचर्स न होना दुर्घटना के प्रमुख कारण हैं ।
  उत्तर प्रदेश में एक्सप्रेस - वे पर होने वाली दर्घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए आज लोक भवन के कमान्ड सेंटर में उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण ( यूपीडा ) ने ट्रैफिक इंजीनियरिंग और सड़क सुरक्षा पर आधारित दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया । कार्यशाला में काउंसिल आफ साइंटिफिक एण्ड इंडस्ट्रियल रिसर्च ( सीएसआईआर ) तथा सेन्ट्रल रोड रिसर्च इंस्टीट्यूट ( सीआरआरआई ) के विशेषज्ञों ने यूपीडा की तकनीकी टीम को सड़क निर्माण से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से जानकारी दी जायेगी । अपर मुख्य सचिव गृह सूचना एवं मख्य कार्यपालक अधिकारी यपीडा  अवनीश कुमार अवस्थी ने कार्यशाला का शुभारम्भ करते हुए कहा कि एक्सप्रेस - वे पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए रोड सेफ्टी की व्यवस्था अत्यन्त आवश्यक है । ओवर स्पीडिंग , नशे की हालत में वाहन चलाना , ड्राइवर को वाहन चलाते समय नींद आना और मार्ग सेफ्टी फीचर्स न होना दुर्घटना के प्रमुख कारण है । इसके अलावा एक्सप्रेस - वे पर अचानक पशुओं के आने तथा रोड पर खड़े वाहन भी दुर्घटना का कारण बनते हैं । इसी वजह से लगभग हर वर्ष 20 हजार एक्सीडेंट होते हैं । उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सड़क दुर्घटनाओं पर रोक थाम के प्रति बेहद गंभीर है । इस पर यपीडा के उठाये गये कदमों से दुर्घटनाओं को कम करने में काफी हद तक सफलता भी मिली है । अवस्थी ने कहा कि एक्सप्रेस - वे पर एक्सीडेंट्स की संख्या आधी करने के लिए विभिन्न उपाय किये जा रहे हैं । सी०सी०टी0वी0 कैमरों के माध्यम से ओवर स्पीडिंग पर लगाम लगाई जा रही है । तीन घंटे से कम समय में एक्सप्रेस - वे पार करने वाले लोगों का चालान भी किया जा रहा है । एक्सप्रेस - वे पर आने वाले पशुओं को पकड़ने के लिए कैटेल कैचिंग गैंग लगाई गई है । उन्होंने कहा कि सभी मामलों में सख्ती करके रोड सेफ्टी के उपयों को कारगर बनाया जा रहा है । गोष्ठी में एक्सप्रेस वे पर ट्रैफिक की सुरक्षा हेतु विभिन्न प्रकार के साइनेज , वाहनों की गति को नियंत्रित रखने के संबंध में मार्ग पर पेवमेंट मार्किंग एवं रबल स्ट्रिप इत्यादि की उपयोगिता पर विस्तार से प्रकाश डाला गया । एक्सप्रेस - वे की परिकल्पना के स्टेज पर मार्ग पर कर्व तथा वर्टिकल ग्रेडियंट इत्यादि को इस प्रकार से निर्धारित करने पर बल दिया गया , जिससे यात्रियों को समुचित साइट डिस्टेंस का पता चल सके । गोष्ठी में इस बात पर बल दिया गया कि एक्सप्रेस वे पर लगभग 50 किलोमीटर के अंतराल पर रेस्ट एरिया का निर्माण किया जाए , ताकि यात्रियों को थकावट की स्थिति में अपनी यात्रा को ब्रेक करने के लिए विभिन्न सुविधाओं यथा टॉयलेट , रेस्टोरेंट , फ्यूल स्टेशन , वाहन की मरम्मत की सुविधा से युक्त रेस्ट एरिया उपलब्ध हों ।  विशेषज्ञों ने बताया कि अधिकतम रोड क्रैश वाहनों की ओवर स्पीडिंग अथवा यात्रियों की थकावट की स्थिति में झपकी आने से होते है । उन्होंने वाहनों की ओवर स्पीडिंग को रोकने के लिए एडवांस्ड ट्रेफिक मैनेजमेंट सिस्टम के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला । विभिन्न प्रकार के साइन एज की उपयोगिता के पर चर्चा की गई तथा साईनेज में सूचना को इस प्रकार से डिस्प्ले करने पर बल दिया गया , जिससे रोड यूजर को साइनेज पर लिखे मैसेज , सूचना को पढ़ने में असुविधा ना हो ।